OthersGiloy

23rd July 2020by Shubham Agarwal0

भारत जड़ी बूटियों से लेकर उससे बनने वाली औषधियों के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है,हालांकि ये औषधि वास्तव में बेहद गुणकारी भी होते हैं,शरीर के हर अंग की व्याधियों को दूर रखने की क्षमता से भी भरपूर होते हैं,और सबसे अच्छी बात कि ये औषधि भारत में बहुतायत में हैं,लेकिन कहते हैं ना,’ घर की मुर्गी दाल बराबर ‘ जड़ी बूटियां औषधि के होने के बावजूद हमारे देश में अब इसकी उतनी एहमियत समझी नहीं जाती ,जबकि वास्तविकता यही है कि इस प्रकार की औषधि शरीर को बिना किसी अन्य नुकसान पहुंचाए व्याधि से दूर रखती है या अगर व्यक्ति उस व्याधि की चपेट में आ चुका है तो उसे जड़ से समाप्त कर देती है।

इसी तरह की एक और गुड़कारी औषधि है गिलोय जिसके विषय में अमूमन लोगों को धीरे धीरे वर्तमान में चल रहे महामारी के दौरान मालूम चल रहा है,और जिसे नहीं मालूम होगा ,हम लेख से इतनी अपेक्षा ज़रूर रखते हैं कि उस तक भी पहुंच जाए।
अब आइए इस औषधि के विषय में जानते हैं,गिलोय पान के पत्तों के आकार के होते हैं,इसे और भी कई नामों से जाना जाता है,जैसे : अमृता,गुडुची,छिन्नरुहा, चक्रांगी, आदि,अमृत के समान गुणकारी होने से ही इसका नाम अमृता पड़ा, गिलोय को ज्वर के लिए एक महान औषधि माना जाता है,गिलोय सामान्यतः पहाड़,खेत की मेड़, जंगलों इत्यादि जगह प्रचूर मात्रा में पाई जाती है।
अब गिलोय के गुण निम्नलिखित हैं:
– रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में बेहद कारगर।
– ज्वर के लिए बेहद फायदेमंद सिद्ध है।
– सर्दी जुखाम को दूर भगाता है।
– चर्म संबंधी रोगों में भी विशेष गुणकारी होता है।
– पाचन तंत्र की क्रियाशीलता को मजबूत करता है।

किसी भी वास्तु,ज्योतिष संबंधी जानकारी के लिए हमसे संपर्क करें।
Predictionsforsuccess.com
धन्यवाद्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

https://predictionsforsuccess.com/wp-content/uploads/2018/07/planets_footer.png

Follow Us

Developed By PhotoholicsMedia

Open chat
Chat with us!