Othersसंस्कार : The Foundation….

27th August 2020by Shubham Agarwal0

संस्कार हर किसी के जीवन में कुछ मीठे और अच्छे एहसास से भरा हुआ होता है,जीवन में कुछ चीज़ें सीखने के हिसाब से कुछ पायदानों पर रखी जाती हैं,उनमें सबसे ऊंचे पायदान पर संस्कार को रखा जा सकता है,हर माता पिता अपने बच्चों में सबसे पहले संस्कारों को ही डालते या सिखाते हैं क्योंकि ये संस्कार ही है जो व्यक्ति को जीवन जीने के कुछ बेहतर नियमों से अवगत कराता है ,जिसका पालन करते हुए व्यक्ति सामाजिक होता है और लोक हित,मानव कल्याण,विश्व कल्याण के विषय में सोचना शुरू करता है।

हालांकि कई दफा ऐसा देखा जाता है कि माता पिता अपने व्यस्त दिनचर्या में से समय ही नहीं निकाल पाते जिससे वे अपने बच्चों में शुरुआत से ही संस्कार दे पाएं और इसका अभाव बच्चों में जो विकारों को निमंत्रण देता है,उससे मां बाप अनजान रहते हैं और इसकी खबर जब उन्हें होने लगती है तो वास्तव मे बहुत देर हो जाती है,फिर आप कुछ नहीं कर सकते।
बच्चों में यही संस्कार की कमी उन्हें कहीं भी पहुंचा देती है और बच्चा खुद को रोक नहीं पाता,क्योंकि कुरीतियों के ख़िलाफ़ कभी घर में बताया ही नहीं गया होता है ,और कुरीतियों के प्रति आकर्षण सबसे पहले होता है,जिसकी वजह से बच्चा फंस जाता है और फिर माता पिता को संस्कार की याद आती है।

यहाँ दुलार या मोह में उनकी गलतियां छिपाने की कोशिश एक माँ पिता को कभी नहीं करनी चाहिए । क्योंकि बच्चा अबोध होता है जब उसे ज्ञात ही नहीं होगा के जो वो कर रहा है वो गलत है तो वो उसकी आदत बन जाएगी। इसलिए समय रहते इसपे अंकुश लगाना आवश्यक है क्योंकि कड़वा नीम सिर्फ बाहर वालो के लिए ही नहीं अपितु उनके लिए भी कड़वा होता है जिसके आँगन में वो फल फूल रहा है।

इसलिए अपने बच्चों में संस्कार पहले दें क्योंकि अच्छे संस्कार ही उन्हें अच्छे इंसान बना सकते हैं।

किसी भी वास्तु,ज्योतिष संबंधी जानकारी के लिए हमसे संपर्क करें।
Predictionsforsuccess.com

अथवा हमारे ज्योतिष विशेषज्ञ Shweta Bharadwaj से  सलाह लेने के लिए यहाँ सम्पर्क करें ।
धन्यवाद्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

http://predictionsforsuccess.com/wp-content/uploads/2018/07/planets_footer.png

Follow Us

Developed By PhotoholicsMedia

Open chat
Chat with us!